Audio


मौनप्रिय की मौलिक कृतियाँ

प्रस्तुत है महाकवि आचार्य श्री आनन्द सागर जी 'मौनप्रिय' की मधुर वाणी में संगीतमय पूजन एवं विधान । यह रचना महाराज श्री द्वारा वर्ष 1986 में रिकॉर्ड की गयीं थी । हमारा सौभाग्य है कि हम इस ऐतिहासिक महाराज श्री की मधुर वाणी में संगीतमय पूजन एवं विधान को इंटरनेट के माध्यम से जन जन तक पहुँचा पा रहे हैं ।