Aarti


समाधि सम्राट गुरूवर आचार्य श्री 108 मुनिसुव्रत सागर जी महाराज के परम शिष्य अनेकॉंत चक्रवर्ती महाकवि आचार्य श्री आनन्द सागर जी मुनिराज मौनप्रिय की जन्म षष्टी सम्पूर्ति के पुण्य प्रसंग पर प्रस्तुत है संगीतमय द्वारापेक्षण बेला संत सत्कार संग्रह।



  परिचय

 

   द्वारापेक्षण बेला

 

   आरती करते हैं गुरूवर आपकी हम

 

  आचार्य आनन्द सागर जी मुनिराज की पूजा

   

   मंगल आरतीः ज्ञान की ज्योति जगमग जले हे गुरू

 

   मगंल आरतीः मणिमय जगमग दीपक ले

 

   मंगल आरतीः करें आरती गुरूवर तेरी

 

   मंगल आरतीः आरती मौनप्रिय जी तिहारी